Download App

पत्नी ही करवाया था पति की हत्या, पुलिस ने विपत दास हत्याकांड का किया खुलासा ..

संजय भारती , समस्तीपुर।

समस्तीपुर जिला के हसनपुर रोड रेलवे स्टेशन के समीप मंगलवार की अहले सुबह एक झाड़ी में युवक का शव मिलने का खुलासा हसनपुर थानाध्यक्ष निशा भारती ने महज 12 घंटे के अन्दर कर ली और सभी अभियुक्तों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया । मालूम हो कि हसनपुर रोड रेलवे स्टेशन के समीप सड़क के किनारे झाड़ी में एक युवक का शव पड़ा हुआ था । जिस पर मंगलवार को अहले सुबह मोर्निंग वॉक पर निकले लोगों की नजर पड़ा तो लोगों ने शोर मचाया । शोर सुनकर राहगीरों की भीड़ झाड़ी के पास जुट गयी । स्थानीय लोगों ने हसनपुर पुलिस को घटना की सूचना दिया । सूचना मिलते ही हसनपुर थाना के वरीय एसआई अजित त्रिवेदी दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर घटना की जांच में जुट गए । घटना के सम्बंध में मृतका की पत्नी मीरा देवी ने पुलिस को मनगढंत बयान दिया कि हमलोग पूरे परिवार के साथ बेंगलुरू में मजदूरी करते थे । जहाँ से सोमवार की रात अपने परिवार के साथ घर को लौट रहे थे । इसी दौरान हसनपुर रोड रेलवे स्टेशन से निकलकर अपने घर सकरपुरा की ओर जा रहे थे कि रास्ते में पांच की संख्या में घात लगाए बैठे अपराधियों ने हमलोगों को रोक लिया और बैग दिखाने को कह रहा था कि बैग में क्या है । जिसे मेरे पति ने बैग दिखाने से इंकार कर दिया तो अपराधियों ने जबरन मेरे पति को एक झाड़ी मे ले गया । जिसको देखकर हम डर गए और अपने बच्चों के साथ वहीं दूसरे झाड़ी मे जा छुपी । एक घंटा बाद किसी तरह झाड़ी से निकलकर हसनपुर रेल पुलिस को घटना के बारे में जानकारी दी तो हसनपुर रेल पुलिस ने कहा कि ये मेरे क्षेत्र के बाहर की घटना है आप हसनपुर थाना को जानकारी दिजिये । मृतक की पत्नी ने यह भी बताया कि मुझे उस वक्त तक हत्या की जानकारी नहीं थी । मैं सिर्फ यही समझ रही थी कि अपराधियों ने सिर्फ लूटपाट किया है । सुबह में मुझे हत्या की जानकारी मिली है । हसनपुर पुलिस को मृतक की पत्नी मीरा देवी के बयान पर संदेह हुआ तो उसे हिरासत में लेकर गहन पूछताछ करनी शुरू किया तो मृतक की पत्नी ने घटना की सारी गुनाह कबूल कर लिया और अपने पति की हत्या की बात कबूल कर ली , उसके निशानदेही पर घटना में शामिल अभियुक्त मीरा देवी की बहन का पुत्र विक्रम कुमार समेत अन्य को गिरफ्तार कर लिया गया । मृतक युवक हसनपुर थाना क्षेत्र के सकरपुरा गांव निवासी गांगो दास के 30 वर्षीय पुत्र विपत दास था ।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: