Download App

भाजपा आरक्षण समाप्त करने का रच रही है षडयंत्र : बबलू कुमार मंडल..

खगड़िया, बिहार दूत न्यूज।

कचहरी रोड स्थित जनता दल यूनाइटेड के जिला कार्यालय में गुरूवार को पार्टी के अतिपिछड़ा वर्ग के नेताओं के साथ जदयू जिला अध्यक्ष बबलू कुमार मंडल ने प्रेसवार्ता के दौरान प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार की जनता भलीभांति जान रही है कि नगर निकाय चुनाव की तिथि घोषित होंने के बाद भाजपा के नेता बाधा उत्पन्न कर रहे हैं,सवाल खड़ा कर रहे हैं कि नगर निकाय चुनाव में उम्मीदवारों का फिर से नामांकन की प्रक्रिया होंनी चाहिए।जबकि सत्य यह है कि नामांकन की प्रक्रिया समाप्त होंने के पश्चात चुनाव स्थगित हुआ था सिर्फ मतदान होंना शेष था,जो अब नई घोषित तिथि के अनुसार होगा।
उन्होंने कहा कि जब चुनाव स्थगित हुआ था तो यही बीजेपी के नेतागण वक्तव्य दे रहे थे कि नामांकन कराने में उम्मीदवारों का बहुत खर्च हो गया है और अब जब सिर्फ नगर निकाय का मतदान की तिथि घोषित हुई है तो नये नामांकन की बात उठाकर सवाल खड़ा कर रहे हैं।इस तरह की हरकत से यह साफ प्रतीत होता है कि वास्तव में भाजपा आरक्षण को समाप्त करने का षडयंत्र रच रही है।बिहार में अतिपिछड़ा वर्ग को पंचायत में वर्ष 2006 से एवं नगर निकाय में वर्ष 2007 से हीं आरक्षण लागू है एवं कई चुनाव हो चुके हैं।लोकप्रिय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी ने अतिपिछड़ा वर्ग को जो आरक्षण दिये हैं वह लागू रहेगा।भाजपा का कोई साजिश और षडयंत्र सफल होंने वाला नहीं है।
बतौर श्री मंडल ने कहा कि पटना उच्च न्यायालय के आदेश के बाद अतिपिछड़ा वर्ग आयोग ने इन वर्ग के लोगों का सामाजिक व राजनीतिक पिछड़ेपन का अध्ययन कर रिपोर्ट सौंपी; जिसे पिछड़ा वर्ग आयोग ने भी समीक्षा कर इसपर अपना सुविचारित मंतव्य दिया और इसके बाद चुनाव की तिथि की घोषणा हुई।सर्व विदित है कि इस आयोग के अध्यक्ष पटना उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश हैं।
जदयू के जिला अध्यक्ष बबलू कुमार मंडल ने भाजपा का नकली अतिपिछड़ा प्रेम का लबादा खोल कर रखते हुए कहा कि भाजपा का चेहरा इस तथ्य से भी उजागर होता है कि मई 2022 में मध्यप्रदेश में हो रहे नगर निकाय चुनाव में मध्यप्रदेश पिछड़ा वर्ग आयोग की अनुशंसा को ही सर्वोच्च न्यायालय ने स्वीकार कर चुनाव की अनुमति दी है।मध्यप्रदेश भाजपा शासित राज्य है,इसलिए वहां गठित पिछड़ा वर्ग आयोग में तीन सदस्य भाजपा के माननीय विधायक हैं जिनकी अनुशंसा स्वीकार किया जा सकता है और बिहार में पिछड़ा-अतिपिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश हैं जिनकी अनुशंसा पर नगर निकाय चुनाव की तिथि का घोषणा हुआ है उसपर प्रश्नचिन्ह खड़ा करना भाजपा का आरक्षण विरोधी चेहरा को उजागर करती है।
प्रेसवार्ता के अवसर पर जदयू के पूर्व जिला अध्यक्ष व पूर्व एमएलसी सोनेलाल मेहता,अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष मोहम्मद शहाव उद्दीन,अतिपिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष प्रवीण कुमार चौरसिया,जिला उपाध्यक्ष पंकज कुमार पटेल,जिला प्रवक्ता अरविन्द मोहन,राकेश पासवान शास्त्री,प्रदेश सचिव अजय मंडल, मो0 फिरदोष आलम,जिला महासचिव उमेश सिंह पटेल,रामबिलास महतो,नगर अध्यक्ष जितेंद्र पटेल,जिला सचिव अनुज शर्मा,पंकज कुशवाहा,राजीव ठाकुर आदि दर्जनों पार्टी के साथी उपस्थित थे।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »