Download App

PM मोदी ने कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर की हाई लेवल मीटिंग, दिए यह निर्देश

बिहार दूत न्यूज, नई दिल्ली।

Advertisement

गुरुवार को देश में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने एक हाई लेवल मीटिंग की. करीब दो घंटे तक चली इस बैठक के बाद पीएम मोदी ने लोगों से मास्क पहनने के साथ-साथ कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने अपील की है. उन्होंने जीनोम सीक्वेंसिंग और कोविड टेस्टिंग बढ़ाने को कहा है.
प्रधानमंत्री ने लापरवाही पर लोगों को आगाह भी किया है. इसके अलावा उन्होंने कड़ी निगरानी की सलाह दी. उन्होंने दोहराया कि कोविड अभी खत्म नहीं हुआ है. उन्होंने अफसरों को खास तौर से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर चल रहे सर्विलांस मेजर्स को मजबूत करने का निर्देश दिया.
इसके अलावा उन्होंने बुजुर्गों और बीमार लोगों को बूस्टर डोज लेने की अपील की है. इस दौरान पीएम ने फ्रंटलाइन वर्कर्स और कोरोना योद्धाओं की निस्वार्थ सेवा की सराहना भी की. बैठक में कोरोना को लेकर तैयारी, वैक्सिनेशन की स्थिति और नए कोविड-19 वैरिएंट के आने और उसका असर का आकलन करने के लिए चर्चा हुई.
पीएम ने बताया कि भारत में कोरोना के मामलों में लगातार गिरावट देखी जा रही है.
उन्होंने बताया कि 22 दिसंबर को कोरोना दैनिक केस घटकर 153 आए जबकि वीकली पॉजिटीविटी रेट 0.14% तक कम हो गई है. हालांकि, पिछले एक हफ्ते से दुनियाभर में कोरोना के हर दिन औसतन 5.9 लाख केस दर्ज किए जा रहे हैं.
पीएम ने यह तय करने की जरूरत पर बल दिया कि हर स्तर पर सभी तरह के कोविड इंफ्रास्ट्रक्चर और मानव संसाधनों को बनाए रखा जाए. उन्होंने राज्यों को ऑक्सीजन सिलेंडर, पीएसए प्लांट, वेंटिलेटर और मानव संसाधन समेत अस्पताल के बुनियादी ढांचों को तैयार रखने के लिए कोविड स्पेसिफिक सुविधाओं का ऑडिट करने की सलाह दी है.
पीएम ने अफसरों को टेस्टिंग और जीनोम सीक्वेंसिंग के प्रयासों को तेज करने का निर्देश दिया है. उन्होंनें राज्यों को हर दिन जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए INSACOG जीनोम अनुक्रमण प्रयोगशालाओं (IGSLs) के साथ बड़ी संख्या में नमूने साझा करने के लिए कहा है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने से अगर देश में कोविड का कोई नया वैरिएंट फैल रहा होगा तो समय रहते उसका पता लगाने में मदद मिलेगी.
पीएम ने लोगों से अपील की कि त्योहारों को ध्यान में रखते हुए हर समय कोविड नियमों का पालन करें. उन्होंने कहा कि भीड़भाड़ वाले या सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनें. उन्होंने कहा कि बूस्टर डोज को खास तौर से कमजोर और बुजुर्गों के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है.

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: