Download App

मधुमेह में सतर्क रहने की है जरूरत आयुर्वेद में है निदान : डॉ अमरनाथ यादव

संजय भारती

मधुमेह जानलेबा रोग है , समय रहते सतर्क रहने पर आयुर्वेद में हैं निदान के सारे गुण । उक्त बातें बिहार राज्य के दरभंगा में आयोजित आयुर्वेद केंद्र के सेमिनार में सीतामढ़ी के चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अमरनाथ यादव ने व्यक्त किया ।

कार्यक्रम में मधुमेह के प्रचार प्रसार का मुख्य कारण भारतीय व्यंजन में पश्चिमी सभ्यता का प्रादुर्भाव हैं । भारतीय लोगों में जंकफूड , मांस मदिरा का सेवन बढ़ रहा । जो मानव शरीर में ईन्सुलीन उत्पन्न करने की क्षमता को घटा देता हैं । फलतः मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है । मधुमेह की रोकथाम में भारतीय महिलाओ का बड़ा योगदान है ।भारतीय व्यंजन का ही उपयोग , मेथी , जामुन , कढी पत्ता का खाद्य पदार्थों में प्रयोग कर मधुमेह के रोक थाम में अहम भूमिका बताया । कार्यक्रम में डॉ शशि कुमार सिंह , डॉ काजल सिंह ने जहाँ सैकड़ो रोगियों का जाँच कर चिकित्सकीय परामर्श दिया वही डॉ जीव कान्त सिंह द्वारा केम्प में नि:शुल्क मधुमेह , ई सी जी, आदि जाँच किया । कार्यक्रम में मुख्य अतिथि डॉ0 प्रो अजीत कुमार (एचओडी ललित नारायण मिथला विश्वविद्यालय दरभंगा) थे । मंच संचालन अजय कुमार कर रहे थे । मौके पर उपस्थित प्रमुख लोगों में सेवा निवृत्त इंस्पेक्टर सुरेन्द्र प्रसाद देव , बलदेब प्रसाद “बिमल”, मनोज यादव समेत अन्य लोग मौजूद थे ।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »