Download App

पूर्व सांसद आरके सिन्हा को डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान कर राष्ट्रपति ने बक्सर को दिया सम्मान

बक्सरः पत्रकारिता, साहित्य,जरूरतमंदों की सेवा करने, रोजगार सृजन के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए भारत की राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने डॉ.आर.के सिन्हा को डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान कर बक्सर जिले के साथ-साथ पूरे देश का मान बढ़ाया है। राष्ट्रपति से डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त करने वाले पूर्व राज्यसभा सांसद पुराने शाहाबाद जिले के कोइलवर प्रखण्ड स्थित बहियारा गांव के मूल निवासी हैं।

आर.के.सिन्हा की बायोग्राफी लिख रहे लेखक मुरली मनोहर श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए बताया कि श्री सिन्हा का जन्म बक्सर में हुआ था। आगे इन्होंने बताया कि अपने करियर की शुरुआत आर के सिन्हा ने पत्रकारिता से की थी, आगे चलकर निर्भिक पत्रकारिता करने की वजह से नौकरी तक चली गई थी। मगर जेपी आंदोलन की एक सशक्त कड़ी आर के सिन्हा ने व्यवसाय के क्षेत्र में कार्य करते हुए जहां एसआईएस जैसी दुनिया की बड़ी निजी सुरक्षा एजेंसी खड़ी कर लाखों लाख लोगों को रोजगार दिया और युवाओं के प्रेरणा स्रोत बने वहीं भाजपा के संस्थापक सदस्य के रूप में कार्य करते हुए साल 2014 में राज्यसभा सांसद निर्वाचित होकर उच्च सदन में भी पहुंचे। उन्हें राष्ट्रपति ने डॉक्टरेट की मानद उपाधि प्रदान कर समस्त पत्रकारिता के क्षेत्र से जुड़े लोगों की मान को बढ़ाया है।

पूर्व राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा ने रोजगार सृजन के क्षेत्र में बड़े स्तर पर कार्य किया है। उन्होंने साहित्य और पत्रकारिता के क्षेत्र में भी कई उपलब्धियां हासिल की है। जरूरतमंदों की सेवा के क्षेत्र में भी उन्होंने कीर्तिमान स्थापित किया है। इन सब उपलब्धियों के कारण अब उन्हें देश की राष्ट्रपति ने डॉक्टर ऑफ फिलॉसफी की मानद उपाधि प्रदान कर मान बढ़ाया है।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »