Download App

भाजपा क्या खत्म होगी?नीतीश जी को खत्म कर देंगे ललन सिंह : डॉ. रणबीर नंदन

पटना, बिहार दूत न्यूज।

पूर्व विधान पार्षद व भाजपा नेता डॉ. रणबीर नंदन ने जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह पर बड़ा हमला किया है। डॉ. नंदन ने कहा कि भाजपा के खत्म करने की बात करने वाले जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह पहले नीतीश कुमार को खत्म करने में लगे हुए हैं। ललन सिंह ने नीतीश कुमार के राजनीतिक खात्मे की सुपारी ली हुई है। राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह जब से जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष अध्यक्ष बने हैं, उनकी कोशिश बस इतनी है कि नीतीश कुमार को राजनीतिक तरीके से खत्म कर दिया जाए। असलियत यह है कि भाजपा को धौंस देने की कोशिश में लगे ललन सिंह, नीतीश कुमार और जदयू के खात्मे के साथ राजद में भाग जाएंगे।

डॉ. नंदन ने कहा कि ललन सिंह अक्सर कहते हैं कि 2024 में भाजपा खत्म हो जाएगी। जबकि हकीकत यह है कि नीतीश कुमार के राजनीतिक अवसान में लगातार सफल हो रहे ललन सिंह जदयू को समाप्त कर राजद में भागेंगे। उत्तरप्रदेश, नागालैंड के बाद नीतीश कुमार के खात्मे का अगला एपिसोड मध्यप्रदेश में लिखा गया है। मध्य प्रदेश में संगठन विस्तार के नाम पर जदयू ने उम्मीदवार उतारने की जो नौटंकी की है, उससे सभी परिचित हैं। जदयू ने मध्य प्रदेश में कभी कोई सीट नहीं जीता है। 2008 में तो सभी 49 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई थी। 2013 में तो 22 में से एक उम्मीदवार की जमानत बची। 2018 का चुनाव जदयू ने लड़ा ही नहीं। अब संगठन विस्तार की बात जदयू के नेता ऐसे कर रहे हैं, जैसे उन्होंने संगठन को महत्व दिया हो।

उन्होंने कहा कि जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद यूपी में पार्टी का सर्वस्व ललन सिंह ने दांव पर लगवा दिया। भाजपा के साथ बिहार में सरकार थी लेकिन यूपी में ललन सिंह ने गठबंधन नहीं होने दिया। नागालैंड में भी यही हाल रहा। 2013 में 13 उम्मीदवार जदयू ने उतारे थे लेकिन 2023 में सिर्फ 7 सीटों पर उम्मीदवार मिल सके। एक विधायक जीता भी लेकिन वो भी जदयू के जहरीले माहौल में पार्टी में टिक न सका।

डॉ. नंदन ने कहा कि जदयू की इन चुनावी हार का ठीकरा कभी भी ललन सिंह के सिर नहीं फूटता है। आरोप नीतीश कुमार पर जाता है कि उनकी लोकप्रियता अन्य राज्यों में नहीं है। इस बार भी मध्य प्रदेश में जदयू जितने सीटों पर लड़ेगी, सभी पर जमानत जब्त ही होगी और एक बार फिर नीतीश कुमार को कमजोर दिखाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि जिस बिहार में जदयू की सरकार है, वहां का भी संगठन खस्ताहाल है। जदयू के संगठन में विधान सभा प्रभारी, लोकसभा प्रभारी, जिला प्रभारी सभी के पद खाली हैं। दो महीने पर होने वाली कार्यसमिति की बैठकें भी नहीं होती हैं।सभी प्रकोष्ठ सुस्त पड़े हैं!सरकार रहते हुए बिहार का संगठन संभल नहीं रहा है और राष्ट्रीय अध्यक्ष देश भर में संगठन विस्तार की खोखली दावेदारी कर रहे हैं।इसीलिए 2024 में महागठबंधन होगी पस्त,भाजपा होगी मस्त क्योंकि आज पटना में कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम में लालू प्रसाद जी मुख्य अतिथि थे,और नीतीश कुमार जी को कांग्रेस द्वारा पूछा भी नहीं गया!यही है घमंडिया महागठबंधन का सच!

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
  • Add your answer
Translate »
%d bloggers like this: