Download App

बाहर से आने वाले बच्चों को पिलायी जा रही पल्स पोलियो की खुराक

10  से 20 नवंबर तक आवागमन स्थल और पूजा स्थान पर उपलब्ध है टीम

– जिले में बनाया गया है 36 ट्रांजिट पॉइंट, उपस्थित हैं 59 टीम
– 19 व 20 नवंबर को छठ घाटों पर तैनात रहेगी टीम

पूर्णिया, बिहार दूत न्यूज।

01 सितंबर 2023 को बिहार राज्य ने पोलियो मुक्त होने के 14 वर्ष पूरे कर लिए हैं लेकिन आवागमन की वजह से विश्व के कुछ देशों में अभी भी पोलियो का संक्रमण जारी है। ऐसी स्थिति में बिहार में भी आवागमन का खतरा बना हुआ है। दीपावली और छठ पूजा में बाहर से बहुत से परिवारों का आवागमन होता है। जिससे राज्य में पोलियो वायरस के आने की संभावना रहती है। इन स्थितियों में स्थानीय बच्चों को पोलियो मुक्त रखने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 10 से 20 नवंबर तक विशेष पोलियो अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान जिले के विभिन्न आवागमन स्थलों पर बाहर से आने वाले परिवारों को चिह्नित करके उनके 0 से 5 वर्ष के बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई जा रही है। इसके लिए जिले के प्रमुख आवागमन स्थल में स्वास्थ्य विभाग द्वारा विशेष टीम नियुक्त की गयी है। टीम द्वारा बाहर से आने वाले बच्चों की पहचान कर उन्हें दो बूंद पोलियो खुराक पिलाते हुए जिले को पोलियो मुक्त रखने का सार्थक प्रयास किया जा रहा है।

10 से 20 नवंबर तक आवागमन स्थल और पूजा स्थान पर उपलब्ध है टीम :

सिविल सर्जन डॉ अभय प्रकाश चौधरी ने बताया कि दीपावली और छठ पर्व के कारण बहुत से बाहर रहने वाले लोगों का आवागमन शुरू हो जाता है। जिसके द्वारा विशेष रूप से छठ पूजा में बढ़ चढ़ कर भाग लिया जाता है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 10 नवंबर से ही विशेष पल्स पोलियो अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान जिले के प्रमुख आवागमन स्थलों में विशेष ट्रांजिट टीम तैनात की गई है। जिसके द्वारा 0 से 5 वर्ष के बच्चों की पहचान करते हुए उन्हें दो बूंद पोलियो की दवा की  खुराक पिलाई जा रही है। आवागमन स्थल पर छूटे हुए बच्चों के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 19 व 20 नवंबर को छठ घाटों पर भी ट्रांजिट टीम तैनात की जाएगी। जिससे  उपस्थित बच्चों को पोलियो दवा की खुराक पिलाई जा सके। इसमें यूनिसेफ व डब्ल्यूएचओ द्वारा भी स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक सहयोग किया जा रहा है। जिससे कि बाहर से आ रहे सभी बच्चों को पोलियो दवा की खुराक उपलब्ध हो सके। दो बूंद पोलियो दवा की खुराक पीने से बच्चे पोलियो बीमारी से सुरक्षित रहेंगे और पूरे जीवन स्वस्थ जीवन यापन कर सकेंगे।

जिले में बनाया गया है 36 ट्रांजिट पॉइंट, उपस्थित हैं 59 टीम :

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विनय मोहन ने बताया कि विशेष पल्स पोलियो अभियान के सफल संचालन के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले के पांच प्रखंडों के प्रमुख आवागमन स्थल को चिह्नित किया गया है। इन प्रखंडों में 36 ट्रांसिट पॉइंट बनाये गए हैं। जिसमें सभी प्रखंडों के शहरी क्षेत्र के बस स्टैंड, निकास द्वार सहित रेलवे स्टेशन के भी सभी प्लेटफार्म पर टीम तैनात की गयी है । जहां बच्चों को पोलियो दवा की खुराक पिलाने के लिए टीम तैनात की गयी है। इसमें पूर्णिया पूर्व (शहरी) क्षेत्र में 16, जलालगढ़ में 03, कसबा में 07, बायसी में 05 तथा बनबनखी में 05 ट्रांजिट पॉइंट बनाया गया है। सभी ट्रांजिट पॉइंट में कुल 59 टीम लगाई गई है। जिसके द्वारा 0 से 05 वर्ष के बच्चों की पहचान करते हुए उन्हें दो बूंद पोलियो खुराक पिलाई जा रही है। ट्रांजिट पॉइंट से छूटे हुए बच्चों के लिए छठ पूजा में पूजा घाट पर भी टीम तैनात की जाएगी। जहां बाहर से आये हुए बच्चों को पोलियो दवा की दो बून्द पिलाई जाएगी। उन्होंने बताया कि पल्स पोलियो अभियान के लिए सभी स्थलों पर प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों की टीम लगाई गई है। जिससे कि बाहर से आने वाले एक भी बच्चा नहीं छूटे और सभी बाहरी बच्चों को पोलियो दवा की खुराक पिलाई जा सके।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »