Download App

हसनपुर प्रमुख को झटका अविश्वास को लेकर पंचायत समिति सदस्यों ने दिया आवेदन

बिहार दूत न्यूज़, समस्तीपुर।

समस्तीपुर जिला के हसनपुर प्रखण्ड के प्रखण्ड प्रमुख विश्वनाथ तांती पर अविश्वास लगाने को लेकर प्रखण्ड के आधे से अधिक पंचायत समिति सदस्यों में अमरजीत पासवान, दीपक कुमार चौधरी, तारणी पासवान, रूबी गुप्ता, सीमा भारती, नीता देवी, अंजू देवी, मोहम्द रूस्तम, किशन कुमार, अर्चना कुमारी, कैलाश राय, अरुण कुमार, आशा देवी, सोनी देवी, मंजू बाला, फरजाना खातून, सुधा कुमारी, हरेराम साह, तेजनारायण ठाकुर, निरंजन कुमार, मोहम्द शाहजहाँ, आदि ने हस्ताक्षर युक्त आवेदन प्रखण्ड प्रमुख समेत प्रतिलिपि आवेदन प्रखण्ड विकास पदाधिकारी सह कार्यपालक पदाधिकारी प्रखण्ड पंचायत समिति हसनपुर, अनुमंडल पदाधिकारी रोसड़ा, जिला राज पंचायत पदाधिकारी समस्तीपुर, उप विकास आयुक्त सह कार्यपालक पदाधिकारी जिला परिषद समस्तीपुर, जिलाधिकारी समस्तीपुर को दिया है ।

जिसमें आधे से अधिक हसनपुर के निर्वाचित पंचायत समिति सदस्यों ने कहा गया है कि हम पंचायत समिति सदस्य हसनपुर के प्रखण्ड प्रमुख विश्वनाथ तांती के क्रियाकलाप एवं प्रमुख के द्वारा किये गए निष्पादन कार्यो पर क्षोभ व्यक्त करते हैं कि प्रखण्ड प्रमुख विश्वनाथ तांती अपने स्तर से पंचायत समिति के प्रति लिए गए निर्णय के प्रति पंचायत समिति सदस्यों का विश्वास प्रमुख के प्रति उठ चुका है, तथा पंचायत समिति सदस्यों को ह्रास हुआ है । जिस कारण आधे से अधिक पंचायत समिति सदस्य प्रखण्ड प्रमुख विश्वनाथ तांती पर अविश्वास व्यक करते हुए विन्दुवार कहा है कि –
1. पंचायत समिति के संचालन हेतु गठित पंचायती राज अधिनियम की धारा 46 {1} का घोर उलंघन करते हुए ससमय पंचायत समिति की बैठक नहीं बुलाया जाना एवं बैठक के बाद मनोनुकूल प्रस्ताव कार्यवाही पुस्तिका में अंकित करना ।
2. पंचायती राज अधिनियम की धारा 50 {1} का उलंघन करते हुए स्थाई समितियों का मनमानी पूर्वक गठन करना ।
3. प्रखण्ड पंचायत समिति के बैठक में लिये गए निर्णयों की जानकारी पंचायत समिति के सदस्यों को नहीं दिया जाना ।
4. वित्त अंकेक्षण एवं योजना समिति के द्वारा गुपचुप तरीके से योजना का चयन कर क्रियान्वयन करवाना ।
5.अपने पद का दुरूपयोग कर कर्मचारी एवं पदाधिकारियों को भयभीत कर उनसे धन उगाही करना एवं विकास राशि का बंदरबांट करना ।
6.पंचायत समिति निधि का दुरूपयोग कर अपने निजी लाभ के लिए दरवाजा खोलना एवं गलत तरीके से धन कमाना ।
7. प्रखण्ड कार्यालय में रिश्वतखोरी एवं भ्रष्टाचार को बढ़ावा देना ।
8. विकास योजना के क्रियान्वयन में मनमानी पूर्वक संचालन एवं कमीशनखाेरी को बढ़ावा देना ।
9.विकास योजनाओं का संचालन पंचायत समिति क्षेत्रवार समान रूप से नहीं किया जाने के साथ – साथ अन्य आरोप प्रमुख विश्वनाथ तांती पर लगाया है, जिसका उजागर पंचायत समिति सदस्य बैठक में करेंगे । पंचायत समिति सदस्यों ने उक्त अधिकारियों से मांग करते हुए कहा है कि प्रमुख पर लगाये गये आरोपों एवंं अविश्वास पर चर्चा तथा मत विभाजन हेतु बैठक की तिथि, स्थान एवं समय निर्धारित किया जाय । इधर प्रमुख विश्वनाथ तांती ने कहा कि पंचायत समिति के द्वारा लगाया गया आरोप निराधार है ।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
  • Add your answer
Translate »
%d bloggers like this: