Download App

बिहार का रोज़गार और जातीय गणना मॉडल देश के लिए एक नजीर बना : राजद

पटना, बिहार दूत न्यूज।

Advertisement

राष्ट्रीय जनता दल के राष्ट्रीय प्रधान महासचिव अब्दुल बारी सिद्दीकी,प्रदेश प्रधान महासचिव रणविजय साहू एवं प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद, प्रदेश राजद के मुख्य प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करती है तो भाजपा यह बताये की एक विभाग में 2 लाख 17 हजार नौकरी 70 दिनों के अंदर महागठबंधन सरकार ने दी है जो देश के लिए एक नजीर है।


इन्होंने ने कहा केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार 10 सालों से सत्ता में है कितने लोगो को नौकरियां दी है ,भाजपा‌ यह बताये जबकि हर‌ साल दो करोड़ लोगों को रोजगार देने की बातें कही थी जो जुमलेबाजी के अलावा कुछ नहीं दिखा। 10 साल से भाजपा सत्ता में वह 20 करोड़ नौकरी देने का वादा करके मुकर गई । केंद्र ने 20 करोड़ लोगों की जगह सिर्फ 7 लाख 22 हजार 331 लोगों को ही नौकरी दी। जबकि तेजस्वी प्रसाद यादव ने जिस संकल्प के साथ 2020 के ‌चुनाव में जो वादा और संकल्प लिया था उसे नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में महागठबंधन सरकार पूरा कर रही है । जो 5 लाख से ऊपर लोगों को नौकरियां अब तक दी जा चुकी है,जो स्पष्ट रूप से दिख रहा है।
इन्होंने कहा कि 10 साल बनाम 15 महीने में क्या अंतर रहा है ये हर क्षेत्रों में दिख रहा है। भाजपा यह बताये कि किन-किन क्षेत्रों में उन्होंने काम किए हैं लोगों को भ्रम और जुमलेबाजी में फंसाने का काम ना करें।
इन्होंने महागठबंधन सरकार के उपलब्धियों की विशेष रूप से चर्चा की और कहा कि तेजस्वी जी का यह नारा पक्का वादा अडिग इरादा! पूर्ण प्रण, पूर्ण संकल्प।
जबसे आई नीतीश-तेजस्वी सरकार
बिहार में अपार रोजगारे-रोजगार है!

इन्होंने आंकड़े प्रस्तुत करते हुए कहा कि हर सेक्टर में महागठबंधन सरकार काट कर रही है और जिस तरह सेशिक्षा विभाग में रिकॉर्ड समय में 2 लाख 17 से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति। गृह विभाग में हज़ारों पुलिसकर्मियों की बहाली। अन्य विभागों में लाखों पदों नियोजन अभियान और प्रक्रिया जारी।
4.5 लाख नियोजित शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा दिलाने का निर्णय।
बिहार में अनुसूचित जाति/जनजाति, पिछड़ा/अतिपिछड़ा वर्ग और सामान्य वर्ग में आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 75% आरक्षण लागू किया।
देश में प्रथम बार बिहार प्रदेश में जातिगत जनगणना करवाई।
तालीमी मरकज़, शिक्षा मित्र और टोला सेवकों का मानदेय दुगुना किया।
आंगनवाड़ी सेविका और सहायिका का मानदेय बढ़ाया। पंचायत प्रतिनिधियों के मानदेय में भी वृद्धि का निर्णय
ये सभी कार्य अपने बहुत कम समय सीमा के अंदर किए। इस अवसर पर संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद, सारिका पासवान, प्रदेश महासचिव फैयाज आलम कमाल, प्रोफेसर चंद्रदीप यादव, अरुण कुमार यादव सहित अन्य गणमान्य नेता उपस्थित थे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
  • Add your answer
Translate »
%d bloggers like this: