Download App

90 वर्ष की उम्र में भी कम नहीं हुआ जज्बा, उमेश्वर प्रसाद सिंह अपने परिवार के साथ डाला वोट

पटना, बिहार दूत न्यूज।

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान शनिवार को हुआ। पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र के बोरिंग रोड स्थित सोफिया विद्यालय के मतदान केंद्र पर लोगों का काफी उत्साह देखने को मिला है। बुजुर्ग हो या युवा सभी में लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भागीदारी को लेकर बेचैनी देखी गई। कुछ ऐसी ही बेचैनी पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र निवासी बिहार प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी 90 वर्षीय उमेश्वर प्रसाद सिंह में देखी गई। वे राजधानी पटना के प्रसिद्ध नेत्र रोग चिकित्सक डॉ सुनील कुमार सिंह के पिता हैं। उमेश्वर प्रसाद सिंह उम्र के आखरी पड़ाव में पहुंच गए हैं, लेकिन लोकतंत्र के महापर्व में मतदान करने को लेकर काफी उत्साहित दिख रहे थे। चलने फिरने से लाचार रहने के बावजूद इस महापर्व को लेकर करीब एक सप्ताह से एक जून मतदान के दिन के बारे में अपने घर परिवार व बेटी को फोन करके मतदान के लिए सबेरे सबेरे तैयार रहने के लिए कहते थे और आज मतदान के दिन सुबह के 4 बजे ही उठ गए और मतदान का समय का इंतजार करने लगे। परिवार के सदस्य को कहते हमको वोट दिलवाओ।

हालांकि शरीर से लाचार रहने के कारण उसे मतदान केंद्र पर व्हील चेयर पर लाने में उनके पुत्र डॉ सुनील कुमार सिंह, डॉ वर्षा सिंह, अनीता सिंह, आयुष सुधाकर, अंशुमान आदि परिवार के सदस्य मतदान करने ले गए और खुद भी बढ़ चढ़कर मतदान में हिस्सा लिया। उन्होंने बताया की अपने दादा के साथ पहली बार वोट दिए थे और आज अपने पोता के साथ वोट देने के लिए आएं। यानि कई पीढ़ी से लगातार लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा लेते रहे हैं। मतदान करने से देश तरक्की करता है और यहीं हमारे भारत के लोकतंत्र की खूबसूरती है।
इधर, डॉ सुनील कुमार सिंह ने कहा कि लोकतंत्र में हर नागरिक का यह दायित्व है कि पांच मिनट समय निकालकर निश्चित रूप से वोट देने आएं। वहीं, डॉ वर्षा ने कहा कि महिलाएं भी देश की नागरिक हैं, मतदान की सार्थकता के लिए मतदान के अधिकार के सदुपयोग करें और बूथ पर मतदान करें। उन्होंने कहा की पहले मतदान तब जलपान करें।
अनीता सिंह ने कहा कि सबेरे मतदान करने के लिए आएं हैं बहुत अच्छा लग रहा है।
बताते चलें कि बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी रहे और 1994 में सेवानिवृत हुए। वे बिहार प्रशासनिक सेवा (बासा) में काफी लंबे समय तक जेनरल सेक्रेटरी, प्रसिडेंट रहे हैं और पूर्व मुख्यमंत्री जननायक कर्पूरी ठाकुर के प्राइवेट सेक्रेटरी रहे हैं।
उमेश्वर प्रसाद सिंह ने बताया की वोट देने के लिए काफी उत्साहित थे और वोट देने के बाद अच्छा महसूस कर रहे हैं।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »