Download App

लोकतंत्र का चौथा स्तंभ उपेक्षा का है शिकार

वैशाली: राजापाकर में गुरुदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर को याद किए गए। नोबेल पुरस्कार विजेता के पुण्य तिथि पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल पत्रकारों ने पत्रकार सुरक्षा पर विशेष रूप चर्चा किया। इस अवसर पहुंचे सदस्यों ने गीतांजलि के रचनाकार तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनके जीवन पर प्रकाश डाला। पुण्य तिथि के मौके पर पहुंचे पत्रकार साथियों ने संकल्प लिया कि लोकतंत्र की धरती वैशाली है। वैशाली की धरती लोकतंत्र की भूमि हैं। लोकतंत्र का चौथा स्तंभ आज उपेक्षा का शिकार हो चुकी है। चौथे स्तंभ के लिए आजादी के 70 वर्ष के बाद भी उपेक्षा का शिकार बना है। कार्यपालिका न्यायपालिका, व्यवस्थिका का कानून बना है। लेकिन पत्रकार जो दिन रात जनता की हित की बाद करते हैं। उनके हित , परिवार, बच्चें और सुरक्षा के लिए न ही केंद्र सरकार सोँच

रही है।
क्योंकि पत्रकारिता समवर्ती सूची में शामिल हैं फिर भी न केंद्र सरकार और न ही बिहार सरकार कोई पहल कर रही है
इत्यादि से संबंधित विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखकर आगामी फरवरी माह 2025में साइकिल यात्रा वैशाली से निकलकर पत्रकार सुरक्षा का मुहिम दिल्ली तक पहुंचाने की बात कही गई है।
दिल्ली पहुंचकर जंतर मंतर पर धरना प्रदर्शन कर केंद्र सरकार से पत्रकार सुरक्षा की मांग की जाएगी।
इस मौके पर जिला अध्यक्ष कालेश्वर कुमार, अरुण श्रीवास्तव, प्रदेश उपाध्यक्ष संजय श्रीवास्तव, संतोष वर्मा, शिव कुमार राय, नागेंद्र राय, आशुतोष आनंद आदि मौजूद थें।

Leave a Comment

[democracy id="1"]
Translate »