Download App

अंधविश्वास ने ली एक भगत की जान, दूसरे भगत जी झाड़-फूंक से करते हैं बीमारी का इलाज..

संजय भारती , समस्तीपुर।
समस्तीपुर जिला हसनपुर थाना क्षेत्र के दूधपुरा पंचायत के वार्ड संख्या 15 निवासी छोटन पासवान की पत्नी कई दिनों से बीमार बताई जाती है।
जिसे परिजनों ने अंधविश्वास के चक्कर में भूत प्रेत का साया समझकर स्थानीय खरहिया निवासी भगत सीताराम पंडित जो वार्ड नंबर 15 के निवासी हैं । बताया जाता है कि भगत सीताराम पंडित वर्षों से झाड़-फूंक का काम किया करते हैं । देश के 21 वी सदी में जहां हर हाथ में मोबाइल स्मार्टफोन पहुंच गया है । वहीं बिहार के समस्तीपुर जिला के हसनपुर प्रखण्ड क्षेत्रों के ग्रामीण इलाकों में अब भी स्थानीय लोग अंधविश्वास में आकर भूत प्रेत भगत से झरबातें रहते हैं। ऐसा देखने को शुक्रवार को हसनपुर प्रखण्ड क्षेत्र के दुधपुरा पंचायत के खरहिया गांव में मिला है । जहां भगत जी पब्लिसिटी के लिए शरीर से भूत उतारने का काम सड़क के किनारे बीमारी से पीड़ित महिला को भूत पकड़ने का नाम बताकर भगत जी महिला की झोटा पकड़कर भूत उतारने का नाटक करने लगे थे । जहां भगत जी का करतब के लिए लोगों की भीड़ भगत जी के झारफूंक व तंत्रविद्या देखने को एकत्रित दिखे । इस अंधविश्वास का खेल में दिसम्बर माह के पहली सप्ताह में हसनपुर थाना क्षेत्र के सकरपुरा पंचायत के डुमरा गांव निवासी 65 वर्षीय बिदन भगत की हत्या अंधविश्वास के कारण अंधविश्वासियों ने कर दिया था । जिसे हसनपुर पुलिस ने हिरासत में लेकर पिछले दिनों जेल भेजा है । तो वहीं हसनपुर क्षेत्र में अंधविश्वास का खेल वर्षों से चलते आ रहा है । सूत्रों की मानें तो अब भी ग्रामीण इलाके में कोई भी व्यक्ति बीमारी से पीड़ित होते हैं तो परिजन लग जाते हैं, भगत जी के पास जाकर भूत उतरवाने । देखते ही देखते भगत जी डॉक्टरों को पीछे करते हुए झारफूंक के मामले में इलाके इलाके भर में मशहूर दिखते नजर आते हैं । अंधविश्वास की राह देखने वाले लोगों की भीड़ भगत जी के यहां लगी रहती है । स्थानीय लोगों ने प्रशासन से मांग करते हुए कहा है कि वैसे वैसे पाखंडीयों पर सख्त कार्रवाई करें ताकि अंधविश्वास के चक्कर में किसी और की हत्या हसनपुर क्षेत्र में न हो पाये ।

Advertisement

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: