Download App

कम टीकाकरण वाले क्षेत्र में बैठक करके लोगों को किया गया जागरूक

बिहार दूत न्यूज, पूर्णिया।

कोविड-19 के पहले डोज टीकाकरण में राज्य स्तर पर पहला स्थान प्राप्त करने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा दूसरे डोज में भी तेजी लाने के लिए गतिविधियां तेज कर दी गई हैं। इसके लिए जिले के सभी ऐसे क्षेत्रों जहां दूसरे डोज का टीकाकरण कम हुआ है उसे चिह्नित करते हुए वहाँ के लोगों को टीकाकरण करवाने के लिए पूरी तरह जागरूक किया जा रहा है। सोमवार को जिले के के. नगर प्रखंड के गोवासी पंचायत स्थित चकला गांव में दूसरे डोज के टीकाकरण हेतु लोगों को जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा पिरामल (स्वास्थ्य) के सहयोग से स्थानीय लोगों की बैठक आयोजित की गई। आयोजित बैठक में गांव के सभी लोगों को स्वास्थ्य अधिकारियों, स्थानीय जनप्रतिनिधियों, धर्मगुरुओं द्वारा समय पर दोनों डोज कोविड-19 का टीका लगाकर खुद को और अपने परिवार को संक्रमण से सुरक्षित रखने की अपील की गई। बैठक के साथ ही वहां टीकाकरण केंद्र भी खोला गया जहां टीकाकरण के दोनों डोज से वंचित लोगों को टीका लगाया गया। आयोजित बैठक में जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी (डीआईओ) डॉ. विनय मोहन, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस सी झा, सीडीपीओ रजनी गुप्ता, हेल्थ एजुकेटर संजय कुमार सिंह, पिरामल स्वास्थ्य के प्रमंडलीय प्रबंधक अमित कुमार शर्मा, डीपीएल जियाउद्दीन टीटू, स्थानीय धर्मगुरु मौलाना वासी अहमद, हसीबुर रहमान, इश्तेयाक, वार्ड सदस्य आफताब आलम के साथ स्थानीय ग्रामीण उपस्थित रहे।

Advertisement

कोविड-19 टीका लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता का करता है विकास : डीआईओ
आयोजित बैठक में लोगों को कोविड-19 टीकाकरण की जानकारी देते हुए डीआईओ डॉ. विनय मोहन ने कहा कि 16 जनवरी से ही जिले में कोविड-19 टीकाकरण चलाया जा रहा है। शरीर में इसे पूरी तरह से कार्य करने के लिए दोनों डोज का लेना जरूरी है। दोनों डोज के बीच एक तय समय अंतराल है। इसके बाद दूसरा डोज बहुत जरूरी है। इसे लेने से ही शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता का पूरी तरह से विकास होता है जो लोगों को कोविड संक्रमण से लड़ने की शक्ति देता है। पूर्णिया में कोविड-19 के तीसरे लहर की भी शुरुआत हो गई है। इससे सुरक्षित रहने के लिए सभी को कोविड-19 की दोनों डोज जरूर लगाना चाहिए। डीआईओ डॉ. मोहन ने बताया कि कोविड-19 टीकाकरण में बिहार जल्द ही 10 करोड़ का लक्ष्य पूरा कर सकता है जिसके लिए आपसभी लोगों की सहभागिता आवश्यक है। समय पर टीका लगाकर इसके भागीदार बनें और अपना जीवन संक्रमण से सुरक्षित करें।

संक्रमण से सुरक्षा के लिए बहुत जरूरी है दोनों डोज का टीका : प्रभारी चिकित्सक
बैठक में लोगों को टीकाकरण के लिए जागरूक करते हुए प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस सी झा ने कहा कि कोविड-19 की दोनों डोज का टीका ही संक्रमण से सुरक्षा का सबसे प्रभावी हथियार है। अगर लोग यह दोनों डोज का टीका लगा लेते हैं तो उसके बाद वह संक्रमण की चपेट में नहीं आएंगे। अगर कोई व्यक्ति टीका लगाने के बाद भी संक्रमित हो जाता है तो भी वह आसानी से जल्दी ही ठीक हो जाएगा । उसे अस्पताल के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी। इसलिए सभी लोगों को टीका जरूर लगाना चाहिए। उन्होंने बताया कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के कोई भी व्यक्ति कोविड-19 टीका लगा सकते हैं। उसमें कोई भी महिला जो गर्भवती हो या नवजात शिशु की माँ हो उन लोगों के लिए भी टीका आवश्यक है। इसके अलावा अन्य बीमारियों से पीड़ित व्यक्ति भी टीका लगा सकते हैं।

अफवाहों पर न करें यकीन :
के. नगर सीडीपीओ रजनी गुप्ता ने लोगों को टीकाकरण से होने वाले किसी तरह की समस्या सम्बन्धी अफवाहों पर यकीन न करने की अपील की। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में टीका लगाने से बीमार होने, प्रजनन क्षमता में समस्या जैसी बहुत तरह के अफवाह फैलाए जा रहे हैं जो पूरी तरह से गलत है। टीका लगाने से ऐसे किसी तरह की समस्या नहीं होती। इसलिए ऐसे अफवाहों पर ध्यान न देते हुए सभी लोगों को टीका लगाना चाहिए।

गफलत में न आकर सबको टीका लगाना चाहिए :
स्थानीय धर्मगुरु मौलाना वासी अहमद ने कहा कि देश के सभी नागरिकों के सभी बीमारियों से बचाव के लिए एक ही तरह की दवाइयां दी जाती हैं। हमलोग गफलत में आकर उसका विरोध कर देते हैं और इससे हमें ही नुकसान होता है। वैक्सीन सबके लिए एक ही तरह का और जरूरी है। हमारे घर पर सबने इसका टीका लगाया है और हमें इससे कोई दिक्कत नहीं हुआ है। इसलिए आप सबको भी इसे लगाना चाहिए।

सभी को जागरूक करना समाज की जिम्मेदारी :
पिरामल स्वास्थ्य के प्रमंडलीय प्रबंधक अमित कुमार शर्मा ने कहा कि कोरोना का टीका लगाना सबके लिए जरूरी है। अगर समाज में कोई एक व्यक्ति इसका टीका नहीं लगाता है तो वह संक्रमित हो सकता है। उसके संक्रमित होने से दूसरे लोग भी आसानी से इसका शिकार हो सकते हैं। इसलिए समाज के लोगों को ही इसके लिए लोगों को जागरूक करते हुए उन्हें टीका लगवाना चाहिए। तभी यह पूरा समाज संक्रमण से सुरक्षित हो सकेगा।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: