Download App

आधी आबादी को पूरा अधिकार दिलाने का पूरा प्रयास कर रहे मुख्यमंत्री, केंद्र का आजीविका समूह इसका उदाहरण : प्रो. रणबीर नंदन

पटना: जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता और पूर्व विधान पार्षद प्रो. रणबीर नंदन ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ऐसे ही दूरदर्शी नेता नहीं कहा जाता है। वे जो सोचते हैं, वह दिशा देने में बड़ी भूमिका निभाता है। प्रो. नंदन ने कहा कि वर्ष 2015 में मुख्यमंत्री ने हर घर को नल का जल योजना से जोड़ने की घोषणा की। इस पर काम शुरू हुआ। आज प्रदेश के गांवों में भी हर घर को नल का जल से जोड़ा जा चुका है। लोगों को साफ पीने का पानी उपलब्ध कराया जा रहा है। केंद्र सरकार ने बिहार सरकार की इस योजना को जल जीवन मिशन के तहत अंगीकार किया है।
प्रो. नंदन ने कहा कि वर्ष 2007 में मुख्यमंत्री ने प्रदेश की आधी आबादी को रोजगार से जोड़ने के लिए योजना तैयार की। गांव की महिलाओं को इस प्रकार से योजना से जोड़ने की सोच रखी, जिससे वे घर का काम करने के साथ-साथ कर सकें। महिलाओं में सामूहिकता की भावना आए। इसको लेकर जीविका मिशन की शुरुआत की गई। जीविका मिशन ने प्रदेश में महिलाओं के बीच एक चिंगारी का काम किया। महिलाओं की आकांक्षाओं को इससे पंख लगे और स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलााओं ने समाज के सर्वांगीण विकास में साझीदार बनना शुरू किया।
प्रो. रणबीर नंदन ने कहा कि बिहार में जीविका समूह की सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि प्रदेश की 10 लाख से भी अधिक महिलाएं जीविका समूहों से जुड़ी हुई हैं। 2 अक्टूबर 2007 को विश्व बैंक के सहयोग से छह जिलों में शुरू किया गया यह कार्यक्रम आज प्रदेश के सभी 38 जिलों तक पहुंच चुका है। गांव की महिलाओं में इस कार्यक्रम ने आपसी तालमेल और सहयोग की भावना का विकास किया है। आज गांव की महिलाओं को सशक्त बनाने में यह प्रभावी भूमिका निभा रही है।
प्रो. नंदन ने कहा कि जीविका समूह अब प्रदेश में नीति निर्धारणक की भूमिका में हैं। वर्ष 2015 में जीविका दीदी के कार्यक्रम में ही शराबबंदी की मांग उठी थी और मुख्यमंत्री जी उनका सम्मान करते हुए इस प्रकार का कानून प्रदेश में लागू किया।

Advertisement

वहीं, वे सरकार की परियोजनाओं को जमीन पर उतारने में मदद कर रही हैं। जीविका समूह के माध्यम से प्रदेश में उद्योग लगाए जा रहे हैं और रोजगार सृजित हो रहे हैं। सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में जीविका समूह की सफलता को देश में सम्मान मिला है। जीविका की तर्ज पर केंद्र सरकार ने पूरे देश में आजीविका समूह के गठन का निर्णय लिया है। यह प्रदेश की करोड़ों महिलाओं का सम्मान है। इसने एक बार फिर साबित किया है कि मुख्यमंत्री की सोच दूरदर्शी है।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: