Download App

महिला पत्रकार को पत्रकारिता जगत में आगे लाना ही गौरी लंकेश की होगी सच्ची श्रद्धांजलि : अरुण वर्मा

बिहार दूत न्यूज, खगड़िया।

Advertisement

देश बचाओ अभियान एवं ऑल रिपोर्टर्स यूनियन ऑफ नेशन के संयुक्त तत्वाधान में अभियान के संपर्क कार्यालय सभागार में प्रखर पत्रकार लेखिका सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश के 60 वीं जयंती के अवसर पर इन के तैल चित्र पर माल्यार्पण पुष्पांजलि समर्पित कर उनकी लेखनी पत्रकारिता को याद किया गया तथा कोटि-कोटि नमन किया गया। तथा 2 मिनट का मौन रख कर श्रद्धांजलि दी गई।


कार्यक्रम का यूनियन के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण वर्मा ने अध्यक्षता किए ।
कार्यक्रम का सफल मंच संचालन अभियान के संस्थापक अध्यक्ष सह यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव किरण देव यादव ने करते हुए कहा कि गौरी लंकेश सच्चे अर्थों में जनवादी सामाजिक कार्यकर्ता लेखक निडर निर्भीक निष्पक्ष प्रखर पत्रकार थे। उनमें देश व समाज की समस्या समाधान, एवं देश की दशा दिशा वह व्यवस्था बदलने की लेखनी में उनकी कलम कभी कुंध नहीं हुई। अपनी कलम की तेज धार से देश की तकदीर तस्वीर बदलने की आजीवन प्रयास की। सत्तासीन सामंतवादी संघी अपराधियों ने प्रखर पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या कर दी बावजूद पत्रकारों का कलम की धार कभी नहीं रुकी है ना रुकेगी।
उन्होंने जिले में विगत 1 वर्ष से बंद पड़े प्रेस क्लब को जिले की मीडिया कर्मी को सुपुर्द करने की मांग जिलाधिकारी से किया।
चीख यूट्यूब चैनल के धर्मेंद्र कुमार , जन वार्ता टाइम्स के आनंद राज, असंगठित मजदूर यूट्यूब चैनल के सुनील कुमार , जगदूत के राजा कुमार, एंकर सुरेश नायक ने पत्रकारों के सम्मान सुरक्षा सुविधा वेतन बीमा भत्ता पेंशन अधिकार देने की सरकार से मांग किया।
नेशन के कार्यकारी अध्यक्ष अरुण वर्मा ने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि महिला पत्रकार को पत्रकारिता जगत में लाना ही गौरी लंकेश को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
कार्यक्रम को सामाजिक कार्यकर्ता मधुबाला, नेशनल इंटर स्कूल के प्राचार्य रेखा राय, ममता कुमारी मानवाधिकार कार्यकर्ता संजय सिंह, गुड्डू ठाकुर अरविंद सिंह चंद्रशेखर मंडल राकेश पासवान शास्त्री रामजी ठाकुर चमरू सिंह मनोज राम कालेश्वर ठाकुर, प्रगतिशील लेखक संघ के अध्यक्ष उपेंद्र कुमार आदि ने कहा कि पत्रकारों की एकता एकजुटता आंदोलन के बल पर पत्रकारों की सुरक्षा संभव है।
कहां की गोदी मीडिया की पीत पत्रकारिता से परहेज कर सच्चे अर्थों में चौथे स्तंभ की भूमिका निभाने की पत्रकारों से अपील किया।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: