Download App

बदलते समय में अपनी आंखों का रखें विशेष ध्यान, चिकित्सकीय परामर्श के बाद लें दवा

पूर्णिया, बिहार दूत न्यूज।

बदलते समय के साथ लोगों के जीने के तरीकों में बहुत बदलाव आया है। अब लोग ज्यादातर समय अपने साथ मोबाइल फोन, कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं। जिसका सीधा असर उनकी आंखों पर पड़ता है। इससे लोगों की आंखों में परेशानी होने की संभावना होती है जो उन्हें मानसिक रूप से तनावग्रस्त कर सकता है। इससे सुरक्षा के लिए लोगों को पहले से ही सतर्क रहने की जरूरत है । जिससे उनकी आंखों में किसी तरह की समस्या न हो।

ज्यादा तकनीकी उपकरण के उपयोग से आजकल आंखों के सूखने की समस्या ज्यादा :
राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय व अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. संतोष कुमार सिंह ने बताया कि आजकल लोगों के ज्यादा तकनीकी उपकरण इस्तेमाल करने से उनके आंखों के सूखने (ड्राई आई) से ग्रसित होने की सम्भावना ज्यादा होती है। इससे ग्रसित होने पर आंखों को रिफ्रेक्टिव ऐरोर की समस्या होती है जिससे लोगों के सामान्य पलक झपकने की रेट घट जाती है। इसे मेडिकल भाषा में कंप्यूटर विज़न सिंड्रोम कहा जाता है। इससे ग्रसित मरीजों को आंखों में जलन, दिखाई कम देना, सर दर्द होना, आंखों में खुजली होना, आंखों से नियमित पानी निकलने जैसी परेशानी होती है। ऐसी स्थिति में लोगों को चिकित्सक से संपर्क करने के बाद ही निर्देशित दवाई का उपयोग करना चाहिए।

चोट लगने पर मेडिकल स्टोर से दवा लेना खतरनाक :
डॉ. सिंह ने कहा कि सामान्यतः आंखों में जरा सा भी चोट लगने या जलन होने पर लोग मेडिकल स्टोर से उन्ही के परामर्श अनुसार दवा का उपयोग करते हैं। ऐसा करने से समस्या हो सकती है। आंखों के किसी भी तरह की समस्या होने पर लोगों को मेडिकल स्टोर में जानकारी के अभाव के कारण स्केरोइड, आई ड्राप दे दिया जाता है। इससे लोगों की आंखों की रोशनी चले जाने का खतरा होता है। स्केरोइड, आई ड्राप के इस्तेमाल से आंखों में फंगल इंफेक्शन की प्रबल सम्भावना होती है। इसलिए सभी लोगों को बिना चिकित्सकीय परामर्श के आंखों से सम्बंधित दवा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

बच्चों को मोबाइल स्क्रीन से दूर रहने की जरूरत :
डॉ. संतोष कुमार सिंह ने कहा कि आजकल बच्चों द्वारा मोबाइल का उपयोग ज्यादा किया जाता है। हमेशा मोबाइल स्क्रीन पर आंखें लगे रहने से आंखों के खराब होने की समस्या होती है। इसलिए लोगों को जितना हो सके इसके इस्तेमाल को सीमित करने की आवश्यकता है।

मेडिकल कालेज पूर्णिया में आंखों की समस्या से ग्रसित मरीजों का होता है पर्याप्त इलाज :
डॉ. संतोष कुमार सिंह ने बताया कि पूर्णिया मेडिकल कालेज में आंखों से ग्रसित मरीजों का पर्याप्त इलाज किया जाता है। इसमें ज्यादातर लोगों को देखने में समस्या की शिकायत रहती है। इलाज के बाद उन्हें जांच अनुसार सही नाप के चश्मे के इस्तेमाल का परामर्श दिया जाता है। आंखों की ज्यादा समस्या होने पर उसे अतिरिक्त इलाज के लिए बाहर रेफर किया जाता है जहां उनका पर्याप्त इलाज हो सके।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: