Download App

सरकार फर्जी धान खरीद का विजिलेंस या CBI से करायें जांच, दोषी पैक्स अध्यक्ष पर विधि सम्मत करें कार्रवाई: टुडू

बिहार दूत न्यूज, खगड़िया।
बिहार पिछले वर्ष 2021-22 मे कई आपदाओ से झेलता रहा जिसमे याश तूफान ने धान के बिचरा को ही गला दिया, बचा खुचा अति विरिष्टि, जल जमाव, बाढ़ ने बिहार के 16 जिला के 134 प्रखंड के किसानों का खरीफ फसल को डुबो दिया, फिर धान कैसे बिहार के पैक्सो मे उग या उत्पादन हो गया ?
यह बात बिहार किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष धीरेंद्र सिंह टुडू ने कहीं, किसान नेता टुडू ने कहा कि, कृषि विभाग के लक्ष्य प्रति वेदन के अनुसार बिहार में 35 लाख हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य था जो पुरा नहीं हो पाया, मुख्य मंत्री ने बिहार में पहली बार जिस खेती योग्य भूमि पर बुआई या खेती नहीं कर सकें किसान वैसे किसानो को भी पहली बार फसल अनुदान देने की घोषणा की थी
किसान नेता श्री टुडू ने सहकारिता विभाग, पैक्स के द्वारा धान खरीद लक्ष्य पूरे होने पर फर्जी करार दिया है और कहा कि, पैक्स अध्यक्षों ने गैर रैयत फर्जी निबंधित किसानों से सिर्फ कागज पर धान खरीद किया है
इसकी प्रमाणिकता यह है कि जिन किसानों से खरीद हुई है, उसके आवेदन के आलोक में पंजीकृत भूमि के खाता, खेसरा, थाना नं, भू स्वामी एम युक्त भूमि के चौहद्दी मे वर्णित किसानों से जांच की जाय तो 80% धान फर्जी तरीके से खरीद हुई है
बिहार में वर्ष 2020-21 मे धान खरीद का लक्ष्य 35 लाख मेट्रिक टन था जिसे बढ़ा कर इस वर्ष 2021-22 मे 44 लाख मेट्रिक टन कर दिया गया पर उत्पादन लक्ष्य से कम हुआ है
मै राज्य सरकार से मांग करता हूँ कि इस फर्जी धान खरीद का विजिलेंस या सी बी आई से जांच कराये और दोषी पैक्स अध्यक्ष पर विधि सम्मत कारवाई करें।

Advertisement

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: