Download App

लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार की स्थापना हुई, जानिए.. 

बिहार दूत न्यूज, पटना।
बिहार के लिए एक एतिहासिक दिन था जब  बिहार में “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार (पुस्तकालय संघ, बिहार)” के सफलतापूर्वक पंजीकरण एवं उद्घाटन के उपलक्ष में एक जेनरल बॉडी मीटिंग का आयोजन आज किया गया, जिसमे “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार (पुस्तकालय संघ, बिहार)” की उद्घोषणा की गई।  जिसका मुख्यालय शेखपुरा बिहार में है !

Advertisement


इस अवसर पर न केवल बिहार के अपितु पुरे भारत भर से लगभग 250 से पुस्तकालय एवम् सूचना विज्ञान के लाइब्रेरी प्रोफ़ेशनल ने भागीदारी कर इस प्रोग्राम को सफल बनाया ! इस प्रोग्राम का संचालन “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार (पुस्तकालय संघ, बिहार)” के अध्यक्ष प्रो० मनोज कुमार सिन्हा ने किया एवं सभी प्रतिभागियों का हार्दिक स्वागत किया और सभी गणमान्य व्यक्तियों को आमंत्रित किया !
इस प्रोग्राम में पूर्व लाइब्रेरी प्रो० एवं तेलंगाना लाइब्रेरी एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रो०  ऐन० लक्षमण राव मुख्य अतिथि थे तथा इन्होने इस एसोसिएशन को सफल बनाने के सम्बन्ध में अपने अनुभव एवं विचार व्यक्त किये एवं “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार (लैब, बिहार)” की औपचारिक उद्घोषणा की ! अन्य मुख्य अतिथि प्रो० पाण्डेय एस० के० शर्मा एवं प्रो० पी० के० जायसवाल ने अपने अनुभव साझा किया एवं अपने विचार व्यक्त किये एवं “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार (लैब, बिहार)” का रजिस्ट्रेशन होने पर खुशी जाहिर किया!
एसोसिएशन  के संयुक्त सचिव डॉक्टर डी डी लाल ने बताया कि 1979 से पूर्व गठित “बिहार लाइब्रेरी एसोसिएशन” अक्रियाशील थी जिसे उन्होंने पुनर्जीवित करने का काफी प्रयास किया परन्तु प्रयास विफल होने के बाद पुनः एक सर्वेक्षण करने के उपरांत “लाइब्रेरी एसोसिएशन ऑफ बिहार – (पुस्तकालय संघ, बिहार) – लैब के नाम से पंजीकरण कराने में सफल रहे, हालाँकि कठिनाईयां भी काफी आयीं लेकिन तमाम कठिनाईयों को दरकिनार करते हुए सफल हुए एवं उन्होंने बताया की ये एसोसिएशन सारी एसोसिएशन से अलग हटकर लाइब्रेरी प्रोफेशन के लिए न केवल बिहार में अपितु पुरे भारत भर में काम करेगा एवं सभी का सहयोग आपेक्षित है !

मुख्य वक्ताओं में प्रो० संजय कुमार सिंह, गुवाहाटी यूनिवर्सिटी, प्रो० मनोज कुमार वर्मा, मिजोरम यूनिवर्सिटी, डॉ० मनीश वाजपेयी, डॉ० किशोर सत्पथी, डॉ० कुमार संजय, शिवजी प्रसाद, डॉ० राजेश कुमार, डॉ० महेश सिंह, डॉ० के के पांडेय,  श्री कुमार गौरव, इत्यादि ने अपने -अपने विचार व्यक्त किये एवं इस एसोसिएशन को सफल बनाने के लिये विभिन्न सुझाव दिए !

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: