Download App

DM ने रब्बी गेहूं के फसल कटनी प्रयोग का किया निरीक्षण, प्रति हेक्टेयर 42.196 क्विंटल उत्पादकता आंकी गई..

बिहार दूत न्यूज, खगड़िया।
जिलाधिकारी डॉक्टर आलोक रंजन घोष ने परबत्ता प्रखंड के परबत्ता ग्राम पंचायत में करना राजस्व ग्राम में रब्बी गेहूं फसल के फसल कटनी प्रयोग का निरीक्षण किया। अर्थ एवं सांख्यिकी निदेशालय, योजना एवं विकास विभाग, बिहार द्वारा बिहार राज्य फसल सहायता योजना अंतर्गत प्रायोजित खरीफ मौसम, कृषि वर्ष 2021-22 के अधिसूचित एवं बीमित फसलों का फसल कटनी प्रयोग संपादित करवाया जाता है।

Advertisement

जिला सांख्यिकी कार्यालय द्वारा रब्बी गेहूं के कटनी प्रयोग के तहत प्राथमिक कार्यकर्ता संजीव कुमार कृषि समन्वयक, परबत्ता को यह प्रयोग आवंटित किया गया था, जिन्होंने इस फसल कटनी प्रयोग का संपादन जिलाधिकारी की उपस्थिति में किया। परबत्ता पंचायत वर्तमान में नगरीय क्षेत्र में शामिल हो गया है, बावजूद इसके कृषि क्षेत्र के विद्यमान होने के चलते फसल कटनी प्रयोग का संपादन कराया गया। ताकि राज्य आय में कृषि का योगदान बरकरार रह सके।
उल्लेखनीय है कि रब्बी फसल गेहूं और मकई के साथ खरीफ फसल भदई मक्का और अगहनी धान का पंचायत स्तरीय फसल कटनी आयोजित किया जाता है, जिसके तहत प्रत्येक पंचायत में 5 फसल कटनी प्रयोग संपादित किया जाता है। फसल कटनी प्रयोग से एक ओर जहां फसलों की उत्पादकता ज्ञात होती है, वहीं दूसरी ओर इसके आधार पर अधिसूचित एवं बीमित फसलों हेतु फसल क्षतिपूर्ति का निर्धारण सहकारिता विभाग, बिहार द्वारा किया जाता है। केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा इसके आंकड़ों का प्रयोग कृषि संबंधित नीतियों को तय करने में भी किया जाता है।
फसल कटनी प्रयोग उपज दर के अनुमान लगाने का एक वैज्ञानिक ढंग है तथा कटनी प्रयोग का विधिवत किया जाना शुद्ध शुद्ध अनुमान लगाने के लिए अत्यंत आवश्यक है। इसके लिए फसल कटनी प्रयोगो की विभिन्न प्रक्रियाओं का निरीक्षण उच्च स्तरीय पदाधिकारियों द्वारा किया जाता है। इसी क्रम में आज जिलाधिकारी द्वारा परबत्ता में फसल कटनी प्रयोग का निरीक्षण किया गया। नक्शे के आधार पर राजस्व कर्मचारी एवं अमीन द्वारा खसरा का चयन विधिवत तरीके से किया गया था।
फसल कटनी प्रयोग के लिए खसरा/कीता संख्या 27 पर स्थित करना, परबत्ता के किसान श्री लाल मिश्र के खेत का चयन किया गया। यह खेत महेशलेट मोड़ के पास स्थित था। फसल कटनी प्रयोग के दौरान रैंडम तालिका स्तंभ के आधार पर खेत में 10 मीटर लंबाई एवं 5 मीटर चौड़ाई के आयताकार खंड को चिन्हित कर उक्त खंड की सीमा पर या उसके अंदर पड़ने वाले रब्बी गेहूं की फसल की कटाई कराई गई।
जिलाधिकारी ने स्वयं हाथ में हसुआ पकड़ कर फसल काटना प्रारंभ किया और तत्पश्चात मजदूरों द्वारा चिन्हित क्षेत्र में फसल कटनी की गई। इसका चित्र एवं डाटा सीसीई ऐप पर अपलोड किया गया। विदित हो कि प्रत्येक फसल कटाई प्रयोग का चित्र एवं डाटा क्रॉप कटिंग एक्सपेरिमेंट ऐप पर अपलोड किया जाना अनिवार्य है, जिसमें खेत का जीपीएस लोकेशन भी दर्ज होता है। इस दौरान फसल कटनी प्रयोग के महत्व एवं इसकी प्रक्रिया की जानकारी उपस्थित जनप्रतिनिधियों एवं किसानों को दी गई।
जिलाधिकारी की उपस्थिति में फसल कटनी के बाद थ्रेसिंग का कार्य किया गया, जिससे प्राप्त गेहूं के दाने की तौल की गई। 50 वर्ग मीटर क्षेत्र में कटनी किए गए गेहूं के दाने का वजन इलेक्ट्रॉनिक तराजू पर 21.980 किलोग्राम मापा गया। इस आधार पर प्रति हेक्टेयर गेहूं की उत्पादकता 42.196 क्विंटल आंकी गई, जिसे बेहतर उत्पादकता माना जा सकता है। कटनी से प्राप्त गेहूं के दाने को बोरे में सीलबंद किया गया और 10 दिनों तक इसे धूप में सुखाने के बाद सूखे दाने का वजन ज्ञात किया जाना है।
निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों और किसानों से उनके समस्याओं के बारे में भी जानकारी ली। जनप्रतिनिधि पूर्व मुखिया ने कबीर अंत्येष्टि योजना और कन्या विवाह के संबंध में जिलाधिकारी से समस्या बताई।
जिस पर जिलाधिकारी ने सहायक निदेशक, सामाजिक सुरक्षा को फोन पर आवश्यक निर्देश दिए। स्थानीय किसानों ने केले की खेती के लिए डीएपी खाद की उपलब्धता नहीं होने की जानकारी दी। पंचायत भवन के सुचारू रूप से चालू नहीं रहने की भी शिकायत जिलाधिकारी से की गई, जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि मुखिया अगर अपना कार्यालय समझकर पंचायत भवन में बैठना शुरू कर देंगे, तो सारी व्यवस्था अपने आप दुरुस्त हो जाएगी।
जिलाधिकारी द्वारा फसल कटनी प्रयोग के निरीक्षण के समय जिला सांख्यिकी पदाधिकारी आनंद प्रकाश, जिला कृषि पदाधिकारी शैलेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी, गोगरी अमन कुमार सुमन, प्रखंड विकास पदाधिकारी, परबत्ता अखिलेश कुमार, अंचलाधिकारी, परबत्ता अंशु प्रसून, प्रखंड सांख्यिकी पदाधिकारी रंजन दास, प्रखंड कृषि पदाधिकारी बुधन महतो, अंचल निरीक्षक राज किशोर सिंह, स्थानीय जनप्रतिनिधि पूर्व मुखिया मुकेश कुमार उर्फ मंटू, पूर्व पैक्स अध्यक्ष चमन जी, वार्ड सदस्य अमित कुमार, प्रखंड आत्मा अध्यक्ष अंजनी यादव सहित बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: