Download App

औरंगाबाद: संविधान निर्माता भारत रत्न बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर के आदमकद मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया

बिहार दूत न्यूज, औरंगाबाद।

Advertisement

जिले के रफीगंज प्रखण्ड परिसर में जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के प्रदेश महासचिव संदीप सिंह समदर्शी ने संविधान निर्माता भारत रत्न बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के आदमकद मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। इस मौके पर निवर्तमान प्रखण्ड अध्यक्ष अरविन्द कुमार भगत, दिलीप कुमार सिंह, संजय कुमार सिंह, शिवनंदन सिंह, मुन्ना कुमार, जेठन यादव सहित अन्य लोगों ने उन्हें पुष्पांजलि अर्पित किया।

वही रफीगंज कासमा रोड स्थित पार्टी कार्यालय में बाबा साहब डॉ भीमराव अंबेडकर जी के तैल्य चित्र पर माला और पुष्प अर्पित कर 131वीं जयंती मनाई गई।

समदर्शी ने कहा कि डॉ आंबेडकर के मुताबिक पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना और भाजपा के पूज्य वीडी सावरकर एक ही सिक्के के दो पहलू थे। एक को जिन्ना के सिद्धांतों पर मुस्लिम राष्ट्र चाहिए था, वही दूसरे को उन्हीं सिद्धांतों पर हिंदू राष्ट्र। उन्होंने अपनी पुस्तक “पाकिस्तान अथवा भारत का विभाजन” के पेज पेज 131 और 132 पर डाॅ. अंबेडकर लिखते हैं: “यह बात सुनने में भले ही विचित्र लगे, पर एक राष्ट्र बनाम दो राष्ट्र के प्रश्न पर श्री सावरकर और श्री जिन्ना के विचार परस्पर विरोधी होने के बजाय एक-दूसरे से पूरी तरह मेल खाते हैं। दोनों ही इस बात को स्वीकार करते हैं,और न केवल स्वीकार करते हैं बल्कि इस बात पर जोर देते हैं कि भारत में दो राष्ट्र हैं एक मुस्लिम राष्ट्र और एक हिंदू राष्ट्र। उनमें मतभेद केवल इस बात पर है कि इन दोनों राष्ट्रों को किन शर्तों पर एक दूसरे के साथ रहना चाहिए।
समदर्शी ने आगे कहा कि डॉक्टर अंबेडकर ने यह पुस्तक 1940 में लिखी थी। भारत के विभाजन से 7 साल पहले। इसी पुस्तक में डॉ. अंबेडकर ने लिखा है “गांधीजी ने अपनी तरफ से एकता की सारी कोशिश कर ली लेकिन वे नाकाम हो गए।” इसलिए पाकिस्तान के गुनाहगार खोजने से पहले डॉ० अंबेडकर को जरूर पढ़ लीजिए। हम सभी उनके द्वारा लिखी गई भारत के संविधान के अनुरूप चलते हुए भारत को विकसित देश निर्माण का हिस्सा बनना चाहिए, आज हमसभी को उनके विचारों को आगे बढ़ाने के लिए एकजुट और दृढसंकल्पित हो। इस मौके पर दिलीप कुमार सिंह, संजय कुमार सिंह, सुरेंद्र कुमार सिंह, शिवनंदन सिंह, जेठन यादव, राजेश कुमार, मुन्ना कुमार, अवधेश कुमार, उपेंद्र कुमार सिंह, संजय कुमार, मोहन यादव, सुनील कुमार भगत, मो० आफताब आलम सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: