Download App

4 और 5 जून को “अवसर 50” में फाइनल चयन के लिए होगा इंटरव्यू, देश के अलग-अलग राज्यों से प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स होंगे शामिल..

बिहार दूत न्यूज, पटना।

Advertisement

4 और 5 जून को “अवसर 50” में फाइनल चयन के लिए होगा इंटरव्यू, देश के अलग-अलग राज्यों से प्रतिभाशाली स्टूडेंट्स होंगे शामिल, अवसर ट्रस्ट के डायरेक्टर मैथमेटिक्स गुरु आरके श्रीवास्तव ने बताया कि वर्ष 2022 से 24 सेशन के लिए दसवीं पास स्टूडेंट्स का अंतिम चयन के लिए इंटरव्यू लिया जाएगा, इंटरव्यू में सफल होने के बाद वैसे सभी स्टूडेंट्स जो आर्थिक रूप से गरीब हैं उन्हें निशुल्क शिक्षा के अलावा वह सारी सुविधाएं प्रदान की जाएगी जिससे वह अपने सपने को साकार कर सकें। आरके श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोना के कारण वर्ष 2020 एवं वर्ष 2021 में अवसर 50 का टेस्ट नहीं हुआ था, जबकी वर्ष 2018 के चयनित बच्चे जो वर्ष 2020 में जेईई मेन और एडवांस के परीक्षा में बैठे थे, लेकिन कोरोना के कारण जब सारी शैक्षणिक संस्थाएं बंद थी तो अवसर ट्रस्ट ने उन्हें दिन रात ऑनलाइन शिक्षा देकर सफलता दिलाया गया। आर्थिक रूप से 7 गरीब स्टूडेंट्स आईआईटी एनआईटी और ट्रिपल आईटी में पहुंचकर अपने सपनों को पंख लगाए।

अवसर ट्रस्ट छात्रों के लिए एक अवसर प्रदान करता है। गरीबों के मसीहा कहे जाने वाले पूर्व राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा की संस्था “अवसर ट्रस्ट”आर्थिक रुप से गरीब स्टूडेंट्स के लिए वरदान बन कर आया है, इसमें जो बच्चे आगे पढ़ना चाहते हैं लेकिन गरीबी के कारण IIT और NIT जैसी परीक्षाओं में शामिल नहीं हो पाते अवसर उन्हें मौका देता है अपनी प्रतिभा दिखाने का। यह एक चैरिटेबल ट्रस्ट है जो प्रतिभाशाली छात्रों के लिए एक अच्छा प्लेटफॉर्म प्रदान करता है।

2018 में शुरू हुआ ‘अवसर ट्रस्ट’ इस साल 50 गरीब मेधावी बच्चों को 2 वर्ष तक के लिए रहने, खाने और पाठन सामग्री आदि की व्यवस्था के साथ कोचिंग की व्यवस्था भी करेगा। BJP के पूर्व राज्यसभा सांसद आर. के. सिन्हा ने बताया कि वह शिक्षकों के परिश्रम और बच्चों के उत्साह से काफी प्रभावित रहते हैं। उन्होंने कहा कि यह बच्चे IIT और NIT की प्रवेश परीक्षा में अवश्य ही अच्छा परिणाम प्राप्त करेंगे। साथ ही ‘अवसर ट्रस्ट’ की कोचिंग से इस बार 7 बच्चों ने आईआईटी और एनआईटी में चुने गए हैं। उन्होंने बताया कि छात्रों के पढ़ाई के लिए लैपटॉप और प्रथम वर्ष का सेमेस्टर शुल्क संस्थान के द्वारा ही प्रदान किया जाएगा।

हर साल संस्था में प्रवेश के लिए एक टेस्ट का आयोजन किया जाता है जिसमें छात्र अपनी योग्यता के अनुसार स्थान प्राप्त कर सकते हैं।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: