Download App

टीकाकरण से वंचित लाभार्थियों को ड्यू लिस्ट के अनुसार किया जा रहा है जागरूक: सिविल सर्जन

पूर्णिया, बिहार दूत न्यूज़।

छठ महापर्व में अपने गांव-घर से दूर-दराज रहने वाले लोग अगर किसी कारणवश कोरोना का टीका लगवाने से वंचित रह गए हैं। तो ऐसे व्यक्ति कोरोना का टीकाकरण जरूर करवाएं। बता दें कि छठ महापर्व के अवसर पर ज़िलें से बाहर या अन्य प्रदेशों से घर आने वाले जिलेवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव एवं सुरक्षित रहने के लिए कोरोना जांच व टीके लगाना बहुत जरूरी हो गया है। क्योंकि कोरोना संक्रमण को जड़ से मिटाने के उद्देश्य से 12 से 14, 15 से 17 एवं 18 से अधिक आयुवर्ग के लाभार्थियों को प्रथम, द्वितीय एवं बूस्टर डोज़ दिलाकर महत्वपूर्ण योगदान करने की आवश्यकता है।

टीकाकरण से वंचित लाभार्थियों को ड्यू लिस्ट के अनुसार किया जा रहा है जागरूक: सिविल सर्जन
प्रभारी सिविल सर्जन डॉ मोहम्मद साबिर ने बताया कि छठ पूजा के अवसर पर अपने घर आने वाले जिलेवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव एवं सुरक्षित रहने के लिए कोविड-19 जांच एवं टीकाकरण से वंचित होने की स्थिति में अपना टीकाकरण आवश्यक रूप से करा लें। वहीं जिले के वैसे वंचित लाभार्थी जिन्होंने अपना सतर्कता डोज नहीं लिया है। वे सभी लोग अपने निकटतम स्वास्थ्य केंद्र या टीकाकरण स्थल जाकर टीकाकरण करा लें। बता दें कि स्वास्थ्य विभाग लगातार टीकाकरण के लिए जन-जागरूकता के साथ-साथ प्रचार वाहनों के माध्यम से प्रचार-प्रसार करा रहा है।

12 वर्ष से अधिक उम्र के योग्य लाभार्थियों को टीकाकृत करने के लिए विभाग कर रहा तत्पर: डीआईओ
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विनय मोहन ने बताया कि जिले के 2 लाख 24 हज़ार 978 किशोरों को जिनकी उम्र 12 से 14 वर्ष के बीच हैं। उन्हें टीका लगाया जा चुका है। जिसमें 130062 को प्रथम तो 94916 युवाओं को टीके की दूसरी डोज़ दी गई हैं। वहीं 15 से 17 वर्ष के 406570 युवाओं को टीका लगाया गया है। जिसमें 218058 को पहला तो 188512 को दूसरा डोज़ दिया गया है। इसी तरह 18 आयुवर्ग से अधिक उम्र के 4074715 लाभार्थियों को टीकाकरण का लाभ मिल चुका है। जिसमें 2070589 को पहला तो 2004126 को टीके की दूसरी डोज़ दी गई हैं। वहीं बूस्टर डोज़ की बात करें तो 18 से अधिक उम्र के 419006 लाभार्थियों को टीकाकृत किया गया है।

अभियंता प्रमोद अपनी मां एवं पत्नी के साथ आकर लिया बूस्टर डोज़: लाभार्थी

पूर्णिया ज़िलें के निवासी एवं अररिया ज़िलें के नरपतगंज स्थित सिंचाई प्रमंडल में कार्यपालक अभियंता प्रमोद कुमार भारती अपनी मां चंद्रकांता देवी एवं लालगंज स्थित उत्क्रमित उच्च विद्यालय की शिक्षिका पत्नी अर्चना कुमारी के साथ आकर कोरोना से बचाव एवं सुरक्षित रहने के लिए टीके की बूस्टर डोज़ लेकर अपने आपको सुरक्षित कर लिया है। क्योंकि कोविड-19 संक्रमण के कारण इनकी छोटी बहन की मौत सितंबर- 2020 में कोरोना से हो गई थी। जिस कारण नियत समय पर कोरोना के टीके लगवा लिए है। ठीक उसी तरह आपलोग भी अपने निकटतम टीकाकरण केंद्र जाकर टीके की डोज़ लगवा लें ताकि कोरोना संक्रमण को जड़ से मिटाने में हम सभी की सहभागिता सुनिश्चित हो सकें।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: