Download App

लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जागरूक करें स्वैच्छिक संगठन:CS..

बिहार दूत न्यूज, पूर्णिया।

Advertisement

लोगों को सरकारी स्वास्थ्य सम्बन्धी योजनाओं की जानकारी देते हुए उन्हें सभी स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उपलब्ध कराने में स्वैच्छिक संगठनों द्वारा अहम भूमिका निभाई जाती है। ग्रामीण स्तर पर लोगों को स्वास्थ्य जानकारी उपलब्ध कराने में सोशल मोबिलाइजेशन नेटवर्क द्वारा लोगों को सहयोग किया जाता है। शनिवार को जिलास्तरीय समीक्षात्मक बैठक में सिविल सर्जन डॉ. एस के वर्मा ने यह बातें कही। उनकी अध्यक्षता में एएनएम स्कूल में यूनिसेफ के वार्षिक कामकाज की समीक्षा की गयी। आयोजित बैठक में सिविल सर्जन ने सभी यूनिसेफ सोशल मोबिलाइजर को लोगों में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए जागरूक करवाने के लिए आगे भी बेहतर सहयोग करने की अपील की। बैठक में सिविल सर्जन डॉ एस के वर्मा के साथ डीपीएम स्वास्थ्य ब्रजेश कुमार सिंह, डीआईओ डॉ. विनय मोहन, डीएएम सत्यम कुमार, यूनिसेफ जिला कंसल्टेंट शिवशेखर आनंद, यूनिसेफ एसएमसी मुकेश कुमार गुप्ता, यूएनडीपी भीसीसीएम रजनीश पटेल, पिरामल डीपीएल जियाउद्दीन टीटू, चाय फाउंडेशन कंसल्टेंट निगार कौसर सहित सभी प्रखंडों के यूनिसेफ बीएमसी उपस्थित रहे।

सभी के सहयोग से जिला का रहा है बेहतर प्रदर्शन :
बैठक में सिविल सर्जन डॉ एस के वर्मा ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले में लोगों को स्वस्थ रहने के लिए विभिन्न तरह के प्रोजेक्ट संचालित हैं। वर्तमान में कोविड-19 महामारी में जिले में लोगों को इसके प्रति जागरूक करने में यूनिसेफ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पहले लोगों को कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के प्रति जागरूक करने से लेकर संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए लोगों को कोविड-19 टीका लगाने के लिए जागरूक करने में यूनिसेफ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इन्हीं प्रयासों का परिणाम रहा है कि पूर्णिया जिला कोविड-19 पहला डोज टीकाकरण में राज्य में पहले स्थान पर है। आगे भी स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभिन्न परियोजनाओं में यूनिसेफ से इसी तरह के सहयोग की अपेक्षा है जिससे कि जिलेवासियों को सभी स्वास्थ्य सुविधाओं का लाभ उपलब्ध कराई जा सके।

कोविड के अलावा अन्य हेल्थ प्रोजेक्ट्स में भी लाया जाएगा तेजी :
डीपीएम स्वास्थ्य ब्रजेश कुमार सिंह ने कहा कि कोविड में जिला पहले स्थान पर है। उसी तरह अन्य प्रोजेक्ट में भी तेजी लाने की जरूरत है। विभिन्न स्वास्थ्य प्रोजेक्ट्स में रूटीन इम्यूनाइजेशन, भीएचएसएनडी, नीति आयोग प्रोजेक्ट्स में भी उसी तरह से मेहनत करने की जरूरत है। रूटीन इम्युनाइजेशन में पूर्णिया पहले 90 प्रतिशत तक लक्ष्य हासिल करता था लेकिन कोविड संक्रमण के कारण अभी उसमें 80 प्रतिशत तक लक्ष्य पूरा किया जा रहा है। सोशल मोबिलाइजेशन से इसमें तेजी आएगी। इसलिए इसे पूरी गंभीरता से किया जाना चाहिए।

नीति आयोग इंडिकेटर में विकास आवश्यक :
डीआईओ डॉ. विनय मोहन ने कहा कि यूनिसेफ द्वारा स्वास्थ्य केंद्रों में नीति आयोग के इंडिकेटर्स में विकास करने की जरूरत है। इससे जिला स्वास्थ्य सुविधाओं में लोगों को बेहतर सहयोग कर सकेगा। यूनिसेफ कंसल्टेंट शिवशेखर आनंद ने सभी बीएमसी को प्रखंड स्तर पर कार्यो में तेजी लाने का निर्देश दिया है जिससे कि जिला की अच्छी स्वास्थ्य व्यवस्था सम्बन्धी रिपोर्ट नीति आयोग को दी जा सके। यूनिसेफ एसएमसी मुकेश कुमार गुप्ता ने सभी स्वास्थ्य योजनाओं में बेहतर सहयोग देने का भरोसा दिया है।

Leave a Comment

क्या वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने का फैसला सही है?
Translate »
%d bloggers like this: